RBI ऑनलाइन लेंडर्स के लिए बना सकती है सख्त कानून

0
373

RBI ऑनलाइन लेंडर्स के लिए बना सकती है सख्त कानून

जी है अब से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर कर्जदारों को सीधे लोन देने वाली पीयर 2 पीयर लेंडिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ पर अंकुश रखने के लिए बहुत ही सख्त नियम बना सकती है। क्योंकी रिजर्व बैंक यह नहीं चाहता कि इस इंडस्ट्री का हश्र बाहर के देशों के ज्यादातर पी2पी लेंडर्स जैसा कुछ भी हो, जिनका कारोबार कमोबेश पोंजी स्कीम जैसा हो गया था। और ये बहुत ही हानिकारक है |
और भारत में आबादी के हिसाब से कहे तो बहुत ही कम लोगों को लोन उपलब्ध है। ऐसे में ऑनलाइन लेंडिंग के अगले लेवल के तौर पर पी2पी स्पेस का उभार हो रहा है। इसको देखते हुए आरबीआई एनबीएफसी की दुनिया में हो रहे डिजिटल इनोवेशन पर करीब से नजर रख रहा है।

एक कॉर्पोरेट फाइनैंसिंग कंपनी के टॉप एग्जिक्युटिव ने कहा, ‘आरबीआई बहुत से प्लेयर्स को पे डे लोन, इंस्टैंट लोन स्पेस वगैरह में इनोवेशन करने दे रहा है। वह पी2पी स्पेस रेग्युलेशन मामले में बहुत सुस्ती बरत रहा है क्योंकि अभी इसका साइज और ग्रोथ कुछ खास बड़ा नहीं हुई है।’

साथ ही इंडस्ट्री के लिए जल्द गाइडलाइंस जारी कर सकता है। कि इस सेक्टर का साइज और ग्रोथ अभी कम ही है, और अभी से इसके कामकाज पर कड़ी नजर रखी जानी चाहिए। ज्यादातर इंडस्ट्री इनसाइडर्स ने इस मामले में इकनॉमिक टाइम्स से ऑफ द रिकॉर्ड बात की क्योंकि इनके रेग्युलेशन पर सरकार और आरबीआई अब भी काफी चर्चा कर रहे हैं।

इसीलिए एक पी2पी कंपनी के फाउंडर ने ये कहा, ‘मेरी समझ से आरबीआई उनके इंट्रेस्ट रेट को रेग्युलेट करना चाहेगा, लेकिन उसको ये नॉर्म्स लागू कराने में बहुत ज्यादा दिक्कते हो सकती है क्योंकि समूचे देश में मशरूम की तरह अनगिनत इंटरनेट बेस्ड प्लेटफॉर्म उग आए हैं। सबसे अच्छा तरीका यह हो सकता है कि कायदे कानून सख्त नहीं हों और तरक्की की ज्यादा गुंजाइश बने।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here