रंगभेद का शिकार हुई सात साल की उम्र में “झांसी की रानी”

0
638

रंगभेद का शिकार हुई सात साल की उम्र में “झांसी की रानी”

नई दिल्ली :- आप सब तो जानते ही है की रंगभेद इस पूरी दुनिया में एक (रेसिज्म) बीमारी की तरह फैला हुआ है ये आम ज़िन्दगी में ही नही बल्कि, ये टेलीविजन और फिल्म इंडस्ट्री भी इससे अछूती नही रह पाई है और सिनेमा जगत में अक्सर रंगभेद को लेकर खबरे आती ही रहती है | और इसी तरह इस छोटे पर्दे की अदाकारा ने इस मनोरंजन जगत में फैले रंगभेद का हुआ खुलासा |

और माना ये भी जाता है कि इसके अलावा लक्ष्मीबाई को एक अंग्रेज सर रॉबर्ट हैमिल्टन ने भी देखा था, लेकिन उसने सि‍र्फ मुलाकात और उनसे बातचीत का ही जिक्र किया है। हैमिल्टन ने रानी की वीरता के बारे में लिखा है। ऐसे में हो सकता है लेकिन जॉन लैंग ने ना केवल देखा बल्कि भविष्य की पीढ़ी के लिए एक इतिहास ही लिख दिया।
और इसी तरह सीरियल की ‘झांसी की रानी” में मनु ने (लछमीबाई ) के बचपन को रोल निभाकर मशहूर हुई अभिनेत्री उल्का गुप्ता का ये कहना है की सात साल की उम्र में ही वो रंगभेद का शिकार हुई थी साथ ही उनका उस उम्र में सीरियल रेशम डंक शुरू हुआ था |

लेकिन टीआरपी काम होने की वजह से शो छह महीने में ही ये बन्द हो गया था, अब उन्हें कई सीरियल के ऑफर भी आते है लेकिन उनके सावला रंग उन्हें पीछे कर देता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here