मौत के करीब जा रहे है धूम्रपान करने वाले लोग

0
529

दिमाग के ग्रे मैटर की बाहरी परत या कॉर्टेक्स के पतले होने और धूम्रपान के बीच कितना संबंध है, यह पता लगाने के लिए वैज्ञानिकों ने एक शोध किया. उन्होंने स्कॉटलैंड के 500 ऐसे लोग लिए जिनकी उम्र 70 और 80 के बीच थी. उन्होंने जो एक खास बात देखी वह यह कि स्मोकिंग छोड़ देने पर यह झिल्ली दोबारा ठीक होने लगती है.

इससे पहले भी कई रिसर्चों के आधार पर कहा जा चुका है कि स्मोकिंग से याददाश्त की कमी जैसी बीमारियां देखने को मिलती हैं. कुछ मामलों में दिमाग को भारी नुकसान होता है.

इससे पहले यह कभी नहीं कहा गया है कि इसकी भरपाई हो सकती है या नहीं. शोध में शामिल लोगों में से जो लोग धूम्रपाना करते हैं उनके ब्रेन स्कैन में कॉर्टेक्स झिल्ली उन लोगों से पतली पाई गई जिन्होंने कभी स्मोकिंग नहीं की.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक 151 देशों में कराए गए सर्वेक्षण के मुताबिक आधे देशों में धूम्रपान करने वाले लड़के-लड़कियों की संख्या बराबर है। यह चिंता की बात है कि धूम्रपान की यह आदत वयस्क होने तक तक जारी रह सकती है। वक्तव्य में कहा गया है, “साक्ष्य बताते हैं कि कुछ देशों में महिलाओं में तंबाकू के इस्तेमाल की दर बढ़ी है।” तंबाकू की वजह से हर साल दुनियाभर में 15 लाख से ज्यादा महिलाओं की मौत हो जाती है और अगले दो दशकों में यह संख्या बढ़कर 25 लाख हो सकती है। यह चेतावनी संयुक्त राष्ट्र ने जारी की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here