बहुजन   समाज  पार्टी  और उसका वोटर – bahujan voter

0
430

सर्व विदित है कि हाल के दो विधान सभा चुनाव हुए है और  उनके नतीजे भी आ चुके है  ! जनाधार के बारे में भी सर्व विदित  है ! इसमे भी कोई शक नहीं कि इस समय EVM  को

निशाना बनाया जाता है !

कुछ भी हो एक सच्चाई भी है कि बाजार में जो  माल होगा वही बिकेगा आपके घर माल  खरीदने वाला नहीं आएगा  जो चिल्लायेगा, आवाज लगाएगा ग्राहक वही जायेगा एक कहावत भी है कि जो दीखता है वही बिकता भी है  आप सभी जानते है कि किसने कितना बेचा, कितना समय बर्वाद किया, कितनी नीदे हराम की, कितनो ने गलेखराव  किये ?

आज की दुनिया में ऐसा नहीं कि आपके शो रूम में चमचमा बोर्ड लगा हो परन्तु अंदर सेल्समेन नहीं है तो आपकी खरीदारी पर निश्चित ही फरक पड़ेगापके बोर्ड को देख कर लोग वापिस चलए जाते है क्योंकि आपने अपने सेल्समेन ही नहीं बैठाये है  लिहाजा बीएसपी का वोटर भटक रहा है

 परमपूज्य डॉ भीम राव आंबेडकर साहब जी जो की विश्व विख्यात , विश्व रत्न , विश्व ग्यांनी होते हुए भी समाज के लिए सभाओं का आयोजन भी करते थे ! लेकिन आज हमारे  नेतागण अपनी पार्टी के अधिकारी बन कर जनता से मिलना स्वम् को अपमानित समझते है ! यह है आपकी बहुजन समाज पार्टी के नेतागण !

राष्ट्र को छोड़ कर, दिल्ली  प्रदेश के उच्च पदाधिकारी, नेतागण, जनता में जाना या संपर्क करना एक विशेष मानसिकता का शिकार हो गए है !  हा. चुनाव के दौरान कुकुरमुत्ता  की तरह जरूर नजर आते  है ! वे लोग टिकट देते समय गडित और  समीकरण देखते मिलते है ! यानि जनता (बहुजन) की वोट इनकी जाग्गेदारी है जैसे कि बसपा कावोट + उम्मीदवार का समाज का वोट ! यही इनका अपना गणित है और टिकट का लेंन  देंन शुरू !

एक बात और है कि जो बसपा के बाद अन्य पार्टिया दलित के नाम से बनी है वे इनकी शाखा है लेकिन प्रभत्व अलग अलग ! जिनका बसपा विरोध करती है या आलोचना ! उन्हें दोषारोपण करने से  पहिले कभी किसी ने सोचा है कि अगर बच्चा रूठ जाय तो बाप उसे समझाता है न कि उसे अलग कर देता है लेकिन अलग करने कि प्रथा, बसपामें कुछ ज्यादा  ही है बजाय एकता करने या उन्हें समझाने के ! रूठे हुए को समझाने में चमचो की बे इज्जति  और उनकी तरककी में बाधा है इसलिए मनाना मुश्किल हो जाता है !

इस समय हर नेता बाबा साहिब और कांशी राम  साहब के नाम से वोट लेते  है लेकिन कभी सोचा उनकी तपश्या क्या थी ? क्या कोई बताएगा : कशी  राम साहब के बैंक खाते, चल अचल सम्पति, उनके किसी भी रिश्तेदार के नाम चल अचल सम्पति, बही खाते ! लेकिन उनके नाम से  लोग कमाई करने लगे है और अपने अपने घरो कोमजबूत  कर रहे है न कि गरीव  समाज  की भलाई और उनके लिए कोई कार्य ! यही कारण है बसपा का वोटर भटक  रहा है और पार्टी का ग्राफ  दिनों दिन नीचे आ रहा है !

                                                                                                   K.S.Suman

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here