नीरव मोदी ने 54 अधिकारियों की मदद से किया 14 , 000 करोड़ का फ्राड

0
211

इस साल फरवरी में सामने आए पंजाब नैशनल बैंक (पी.एन.बी.) महाघोटाले पर एक इंटर्नल जांच रिपोर्ट आई है। पी.एन.बी. की ओर से की गई

आंतरिक जांच में सामने आया है कि 14,000 करोड़ रुपए का फर्जीवाड़ा रिस्क कंट्रोल और मॉनिटरिंग की खामियों के चलते हुआ है। जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि पी.एन.बी. के इस फ्राड में कुल 54 अधिकारी शामिल थे जिसमें क्लर्क, फॉरेन एक्सचेंज मैनेजर, ऑडिटर और रीजनल ऑफिस केप्रमुख शामिल हैं।

इन्हीं 54 अधिकारियों में से 8 लोगों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया कि इस फर्जीवाड़े का संबंध पी.एन.बी. की कुछ ही शाखाओं से नहीं बल्कि कई शाखाओं से जुड़ा हुआ है।

फिलहाल यह रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई है। रिपोर्ट में फर्जीवाड़े के बाद संदिग्ध जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई न करने का भी जिक्र है।

रिपोर्ट में आगे यह भी खुलासा हुआ है कि बैंक ने फॉरेन लैटर्ज ऑफ क्रैडिट (एफ.एल.सी.) के लिए कमीशन वाऊचरों की अच्छी तरह जांच नहीं की और बाद में मुम्बई सर्कल आफिस द्वारा जोनल आफिस को गलत जानकारी भेजी गई।

यही नहीं, पी.एन.बी. के मुम्बई सर्कल आफिस ने अपने अधीनस्थ 5 ब्रांचों की सभी तिमाही रिपोर्टों की अच्छी तरह जांच-पड़ताल करने की जिम्मेदारी सौंपी थी परंतु इस आफिस ने किसी तरह की कोई जानकारी नहीं प्रदान की।

जांच-पड़ताल से पता चला है कि पी.एन.बी. के पास 114 करोड़ रुपए की राशि के बिल ऑफ एंट्रीज (बी.ओ.ईज) के 1804 केस पैंडिंग थे जिनमें नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार ग्रुप और मेहुल चोकसी की कंपनी गीतांजलि ग्रुप भी शामिल हैं।

नई दिल्ली (प.स.) : पंजाब नैशनल बैंक (पी.एन.बी.) ने आज अपना पहला केंद्रीकृत ऋण प्रक्रिया केंद्र शुरू किया है।

इसका मकसद ऋण की गुणवत्ता बेहतर करना है। यह उसकी आंतरिक प्रणालियों और प्रक्रियाओं को मजबूत करने के प्रयासों का हिस्सा है।

उल्लेखनीय है कि बैंक में 13,000 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी ने ऋण पत्रों के माध्यम से इस काम को अंजाम दिया।

इसके बाद से बैंक अपनी प्रक्रियाओं को मजबूत कर रहा है। बैंक ने कहा कि ‘मिशन परिवर्तन’ के तहत उसने कई कदम उठाए हैं और बैंक को भविष्य के लिए तैयार करने का काम किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here