चतुर्थी नवरात्री की नव दुर्गा

0
1035
चतुर्थी नवदुर्गा: माता कूष्मांडा 
माता दुर्गा का चौथा अवतार (4th Form of Navdurga): अपनी मंद हंसी से ब्रह्माण्ड का निर्माण करने वाली “माँ कूष्मांडा” देवी दुर्गा का चौथा स्वरुप हैं । माँ कुष्मांडा की पूजा नवरात्रि के चौथे दिन की जाती है। मान्यतानुसार सिंह पर सवार माँ कूष्मांडा सूर्यलोक में वास करती हैं, जो क्षमता किसी अन्य देवी देवता में नहीं है। माँ कूष्मांडा अष्टभुजा धारी हैं और अस्त्र- शस्त्र के साथ माँ के एक हाथ में अमृत कलश भी है।
Mahant-Om-Nath-Sharma-Jee

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here