खतरनाक हो सकता है बच्चो को चमच्च से दवा पिलाना

0
392

चिकित्सकों के अनुसार बच्चों को दवा पिलाते समय बहुत ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत है। अगर बच्चे को दवाई की मात्रा निर्धारित से ज्यादा दे दी जाए तो उनकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

घरेलू चम्मचों का प्रयोग करने से अक्सर ऐसा ही होता है। इसका कारण यह है कि घरेलू चम्मचो में निर्धारित मात्रा से दो या तीन गुना अधिक द्रव्य समाता है। चम्मचों पर आधारित एक शोध के मुताबिक घरेलू चम्मचों के उपयोग के कारण हम अक्सर बच्चों को  अधिक मात्रा में दवा पिला देते हैं।

शोध के अनुसार बच्चों को दवा पिलाने के लिए दवा की शीशी के ढक्कन पर दी गई मापरेखा का इस्तेमाल करना चाहिए। दवा को पहले निर्धारित माप के अनुसार ढक्कन में निकाल लेना चाहिए और फिर उसे चम्मच में डालकर बच्चो को पिलाना चाहिए। घर में उपयोग किए जाने वाले चम्मचों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसमें निर्धारित मात्रा से दो या तीन गुना अधिक द्रव्य समाता है।

शोध के सह-लेखक और न्‍यूयॉर्क विश्वविद्यालय के मेडिकल स्‍कूल में एसोसिएट प्रोफेसर डॉक्‍टर एलन मेंदेल्‍सोहा के अनुसार 50 प्रतिशत माता-पिता अपने बच्‍चों को दवा की गलत खुराक देते हैं। इसकी मुख्‍य वजह ड्रापर से नापे बगैर चम्मच से सीधे दवा पिलाना है।

एलन के मुताबिक दवा देने का हमारा तरीका बहुत गलत है। किसी दवा के लेबल पर यदि टी-स्‍पून का उल्‍लेख किया गया है, तो भी ज्‍यादातर माता-पिता रसोई के किसी भी चम्‍मच से दवायें पिला देते हैं।

बच्चों का ख्याल रखना हर माता-पिता का फर्ज़ होता है। लेकिन हमें ऐसी कुछ बातों के बारे में नहीे पता होता जो बच्चे को नुक्सान पहुंचा सकती है। हाल ही में किए गए एक शोध में पता चला है कि बच्चे को चम्‍मच से दवा पिलाना हानिकारक हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here