कैसे रचायें अपने हाथो पर मेंहदी

0
435

मेहंदी नाम तो सुना ही होगा शुहागन के लिए मेहंदी बहुत ही जरुरी होती है इसके बिना किसीं भी दूल्हा का सिंगार अधूरा है, और जब घर में कोई फंक्शन या शादी की खास मौके पर भी लोग बहुत ही ख़ुशी से अलग अलग डिज़ाइन की मेहंदी लगवाते है कई बार तो लेडीजे मौका ढूंढती है मेहंदी लगाने के लिए | लेकिन जब उसका रंग ही न चढ़े तो कितनी बुरी बात है तो आइये आज हम बतात्ते है आपको की मेंहदी खरीदते समय किन अवश्य ध्यान रखें|

सबसे पहले की मेहंदी काफी पुराणी न हो 4 महीने से ज्यादा, मेंहदी का पैकेट खुला हुआ न हो, हवा लग जाने पर भी मेंहदी खराब हो जाती है, पैकेट खोलकर जो मेंहदी प्रयोग में लाने के बाद बच जाये उसे एयरटाइट डिब्बे में रख दे | किसी पुरानी जार्जेट की साड़ी या दुपट्टे में मेंहदी तीन बार अवश्य छानें। मेंहदी घोलते समय ध्यान रखें कि नींबू का रस व चाय की पत्ती छलनी से छनी हो, मेंहदी लगाने से पूर्व हाथों को अच्छी तरह दो-तीन बार साबुन से धोयें। 2 चम्मच नींबू का रस व एक छोटा चम्मच दानेदार चीनी हथेली पर लेकर तब तक रगड़ें, जब तक चीनी अच्छी तरह घुल न जाये। हाथों को अच्छी तरह धो लें|

फिर एक रुई के टुकड़े में मेंहदी का तेल लगाकर हाथों में आगेपीछे जहां-जहां मेंहदी लगानी हो अच्छी तरह लगायें। मेंहदी का घोल लगाते समय प्लास्टिक को अच्छी तरह धो कर कपड़े से पोछ लें। कोन का छेद जहां तक हो सके बहुत छोटा रखें। बहुत अधिक ढूंस-ठूस कर कोन न भरें, नहीं तो वहां दबाने पर मेहंदी ऊपर से निकलने लगेगी।

मेंहदी अधिक गाढ़ी न हो कि दबाने पर मुश्किल से निकले और न इतनी पतली कि जरा-सा दबाने पर फैलने लगे। मेहंदी को प्लास्टिक के डोंगे में डालें तथा थोड़ा-थोड़ा करके पानी डालती जायें तथा चम्मच या हाथ से खूब फेंटें। जितनी कभी भी पानी में मेंहदी न डालें।

मेंहदी घोल कर कोन में भर दें तथा 2 घंटे लगायें । घोली हुई मेंहदी खुली न छोड़ें वरना उस पर पपड़ी जम जायेगी। मेंहदी हमेशा कलाई की ओर से शुरू करके, अंगुलियों तक लगायें। बची हुई मेंहदी अंगुलियों के पोर पर लगायें। लगाने के बाद जैसे ही मेंहदी सूखने लगे एक कटोरी में नींबू का रस व चीनी का घोल बनाकर सूई की सहायता से धीरेधीरे लगायें, रगड़ें नहीं, वरना मेहंदी छूटने लगेगी।

3-4 घंटे बाद अच्छी तरह सूखने पर मेंहदी को बटर नाइफ से खुरच कर छुड़ा दें। 5-6 घंटे तक पानी से हाथ भूल कर भी न धोयें। किसी-किसी के हाथ में मेहंदी बहुत हल्की रचती है। ऐसे में हाथों को धोकर अच्छी तरह पोंछ लें,. आप जी उत्सव के लिए मेंहदी लगवा रही हों, उससे कम-से-कम एक दिन पहले मेंहदी लगवायें। क्योंकि मेहंदी का रंग 24 घंटे बाद गहरा होता है।

मेंहदी लगाकर हीटर के पास या धूप में न बैठे वरना मेंहदी रचने से पहले ही सूख जायेगी। दुल्हन को मेंहदी लगाते समय मेनीक्योर व पेडीक्योर पहले ही करवा लेना चाहिए उसके बाद मेहंदी लगानी चाहिए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here