हिंदी में एटीट्यूड शायरी

0
1213

अभी काँच हूँ इसलिए दुनिया को चुभता हूँ, 

जब आइना बन जाऊँगा… पूरी दुनिया देखेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here