हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

0
443

लंबे समय से ऊंची एड़ी की चप्पलें पहन रही महिलाएं यदि अचानक ही फ्लैट चप्पलें पहनना शुरू कर दें तो यह पिंडलियों की मांसपेशियों के लिए खतरनाक हो सकता है।

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

हाई हील को खासकर ऐसी महिलाएं पहनना पसंद करती हैं, जिनकी आयु औसत से कम होती है। ऐसा करके उन्हें ऊंचाई वाली महिलाओं के सामने शर्मिंदा नहीं होना पड़ता है। शादी, पार्टी और आफिस जाने वाली महिलाओं में हाई हील का पहनावा काफी प्रचलित है। लेकिन ऐसा करना महिलाओं के लिए खतरनाक भी हो सकता है।

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

हाई हील पहनने से एड़ियों, जोड़ों, कूल्हों और लगभग पूरी रीढ़ की हड्डी पर पड़ता है। कई बार ऊंची एड़ियों के पहनावे के कारण गर्दन में कड़ापन और तंत्रिकीय प्रभाव होता हैं जो लगातार होने वाले दर्द में बदल जाता है। हाई हील की वजह से आपने बहुत सारे लोगों को जोड़ों के दर्द और हड्डियों की समस्याओं के कारण परेशान होते हुये देखा होगा। धीरे-धीरे यह समस्या बहुत बुरी स्थिति में आ जाती है।

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

 

 

फैशन या सेहत दोनों में से किसी एक को चुनना हो, तो आमतौर पर युवतियां फैशन को ही चुनती हैं.अब जूतेचप्पलों की ही बात लें। अधिक स्मार्ट दिखने की चाहत में आजकल युवतियांहाई हील पसंद करती हैं और उसे पहन कर फूली नहीं समातीं। लेकिन आप जो कुछ पहन रही हैं, वह सेहत के लिए ठीक भी है या नहीं? कहीं ऐसा न हो कि सौदा महंगा पड़ जाए। युवाओं के पसंदीदा आधुनिक फैशनेबल जूते न सिर्फ पैरों, बल्कि रीढ़ की हड्डी सहित शरीर के अन्य कई अंगों के लिए भी नुकसानदेह साबित हो सकते हैं ।

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

 

इन दिनों जूतों की दुनिया में ऊंची एड़ी का फैशन छाया हुआ है। यहां तक कि 6-6 इंच ऊंची एड़ी के जूतेचप्पल और सैंडल पहने युवकयुवतियों को देखा जा सकता है। युवक भी ऊंची एड़ी के जूते तो पसंद करने लगे हैं, लेकिन इन के जूतों का तला भी ऊंचा होता है, जबकि महिलाएं जिन चप्पल, सैंडलों को पसंद करती हैं, उन के तले का भाग नीचा और एड़ी ऊंची होती है। ऊंची एड़ी के चप्पल, सैंडल पहन कर आप इठला भले ही लें, लेकिन उन से उपजने वाली परेशानियां भी कुछ कम नहीं हैं। लगातार ज्यादा समय तक इन्हें पहने रहने से नसों में खिंचाव महसूस होने लगता है, मांसपेशियों की शक्ति क्षीण होने लगती है। परिणामस्वरूप पिंडलियों में स्थाई तौर पर दर्द की शिकायत हो जाती है। यही नहीं, ऊंची एड़ी के चप्पलसैंडलों की वजह से कई बार नसों में सूजन भी आ जाती है।

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

ऊंची एड़ी के चप्पल, सैंडल आप को सामान्यरूप से चलने में भी दिक्कत देते हैं। वक्त आने पर आप उन्हें पहन कर तेज भाग या चल नहीं सकतीं। यदि दौड़ कर बस पकड़नी हो, तो पैरों में मोच आने की आशंका रहती है। कई बार तो गिरने की वजह से हड्डियां भी टूट जाती हैं.

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

 

हाई हील न केवल पैरों के लिए परेशानी का कारण बनती है अपितु कमर के निचले हिस्से में दर्द की समस्या भी पैदा करती है। शरीर का सारा वजन पैरों के अगले हिस्से पर रहता है। यदि आप लंबे समय तक हाई हील पहनती हैं तो शरीर के जोड़ों में भी तकलीफ होनी शुरू हो जाती है। गर्भवती महिलाओं के लिए ऊंची एड़ीके चप्पल या सैंडल घातक हो सकते हैं। उलटासीधा पैर पड़ जाने पर गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंच सकता है।

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

आप जो भी जूतेचप्पल या सैंडलखरीदें, इस बात पर गौर करें कि एडि़यों की ऊंचाई किस चीज से बनाई गई है। आमतौर पर लकड़ी या रबड़ से एडि़यों को ऊंचा किया जाता है। लकड़ी लगी होने से पैरों की शिराओं पर अधिक दबाव पड़ता है अत: रबड़ से बनी एड़ी वाले जूतेचप्पल को प्राथमिकता देनी चाहिए.

हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी
हाई हील्स पहनने से हो सकती है आपको परेशानी

महिलाओं की ऊंची एड़ियों के जूतों की जैविक संरचना गलत बनाते है और अनावश्यक रूप में तनाव आपके एड़ियों, जोड़ों और लगभग पूरी रीढ़ की हड्डी पर पड़ता है। सिर से लेकर पैर तक आपके शरीर में बहुत सारे अंगों की श्रंख्लायें है जो एक दूसरे पर निर्भर करती है जिसमें एक पुर्जे का व्यवहार दूसरे पुर्जे को प्रभावित करता है। कई पुरूषों की तुलना में महिलाओं को ऊंची एड़ी के सैंडल के कारण ज्यादा परेशानी उठानी पड़ती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here