राज्यसभा से मायावती का इस्तीफा देने की घोषणा

0
302
नई दिल्ली पिछले साल जुलाई का ही महीना था 11 जुलाई को एक वीडियो वायरल हुआ इसमें दलितों को बुरी तरह से कथित गोरक्षक पीट रहे थे मामला न अखबारों में प्रकाशित  हुआ न ही टीवी पर  आया 18 जुलाई से मानसून सत्र शुरू हुआ इसमें बीएसपी  की  राष्ट्रिय अध्यक्ष मायावती ने इस घटना को  सदन में  उठाया तब जाकर एक दो दिन बाद यह मामला मिडिया के जरिए लोगो तक पंहुचा
इस साल मई में यूपी में दलितों उत्पीड़न की बड़ी घटना हुई  शब्बीरपुर गांव में दर्जनों दलितों के घर ठाकुर  समुदाय के दंगाइयों द्वारा आग के हवाले कर दिए गए इस घटना के बाद मायावती ने भी वहां का दौर किया लेकिन कार्यवाई नहीं हुई
मायावती ने इस घटना को सदन में रखने की  कोशिश की तो उन्हें बोलने के लिए बहुत ही कम समय दिया गया इस पर मायावती  के  तेवर उग्र हो गए और  उन्होंने कहा  की मै सदन मै  अपने  समाज की  बात ही  नहीं  कर सकती तो मुझे राजयसभा मै रहने का कोई अधिकार नहीं है
मायावती यही नहीं रुकी उन्होंने कहा की मेरी  बात नहीं सुनी गई तो में इस्तीफा दे  दूंगी इसके बाद वः राजयसभा की कार्यवाई का बहिष्कार करते हुए वह सदन से बाहर चली गई
मायावती ने कहा में जिस समाज से आती हु यदि उनके हित की बात आगे नहीं रख  सकती  तो मुझे राज्य  सभा में बने रहने का अधिकार नहीं हे इस बीच समय की कमी के कारण सभापति ने उन्हें बोलने से रोका तो उन्होंने इस्तीफा देने की बात कही उन्होंने कहा की अगर मुझे बोलने का अधिकार नहीं हे तो में अभी इस्तीफा दे दूंगी
आपको बता दे की शब्बीरपुर में महाराणा प्रताप की जयंती निकालने को लेकर दलित और ठाकुरो के बीच विवाद हुआ था और दलितों को बुरी तरह पीटा महिलाओ को उनके स्तन काटने की धमकी दी गई दो दर्जन से ज्यादा घरो में आग  लगा दी गई इस मामले पर प्रशासन चुप्पी साढ़े बैठा हे दलितों को अभी तक न तो किसी तरह का मुआवजा  दिया गया हे और न ही आरोपी ठाकुरो पर कार्यवाई की जा रही हे इसी बात को लेकर मायावती ने इस्तीफा देने की धमकी दी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here