यूपी की जनता की आंखों में धूल झोंकने की कोशिश कर रही सपा – मायावती

0
458
  लखनऊ : मायावती ने सपा के साझा कार्यक्रम को निशाने पर लिया। कि पाँच वर्षां तक सर्वसमाज की घोर अनदेखी व उपेक्षा करते  परन्तु यहाँ की जनता सपा, कांग्रेस व बीजेपी इन तीनों ही पार्टियों के दोग़ले चाल, चरित्र, चेहरे के साथ-साथ इनकी गलत व जातिवादी एवं संकीर्ण नीति व नीयत को भी अच्छी तरह से समझ चुकी है इसलिये अब और धोखा खाने वाली नहीं है
  जो बीएसपी सरकार की नकल हैं जिन्हें बीएसपी की पिछली सरकार में पहले ही लागू किया जा चुका है। जैसे ’महामाया गरीब आर्थिक मदद योजना’ व सावित्रीबाई फूले बालिका शिक्षा मदद योजना 15 हज़ार रुपये की प्रोत्साहन राशि व स्कुल जाने के लिये साइकिल की व्यवस्था की गयी थी तथा 11वीं  12वी पास करने पर उन्हें 10 हज़ार रुपये देने की व्यवस्था को सन् 2009 -10 में ही लागू करके लाखों बालिकाओं को हर वर्ष प्रदान करना शुरू करवा दिया गया था।
 साथ ही एक लाख 10 हजार गाँवों में सफाई कर्मी के सरकारी पद स्वीकृत करके उन पर बहाली की गई। सरकारी क्षेत्रों में लगी भर्ती पर से रोक को हटाकर सारे समाज  के युवाओं व बेरोजगारों को स्थायी नौकरी दी गयी। अलग-अलग घोषणा-पत्र जारी करने के बावजूद फिर से सपा व कांग्रेस द्वारा ’साझा कार्यक्रम’ घोषित किया  गया|
 विकास योजना आदि के माध्यम से लाखों परिवारों को आवास व पक्का मकान उपलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित करायी गयी। इसके अलावा गरीब बालिका आर्शीवाद योजना के माध्यम से लड़कियों को 18 वर्ष की होने पर  एक लाख रुपये देने की योजना लागू की गयी तथा मालिकाना हक योजना जारी की गई|
  कांग्रेस व बीजेपी जनहित की जो भी घोषणायें व वायदे कर रहे हैं उनमें से ज्यादातर बीएसपी की ही नकल हैं क्योंकि बी.एस.पी. की सरकार में उन्हें लागू किया जा चुका है, की या तो उन्हें बन्द कर दिया या फिर उनका नाम बदलकर उन्हें जारी रखा है।
  ये लोग प्रदेश में हर मामले में व हर स्तर पर यहाँ व्याप्त अराजकता का जंगलराज को समाप्त करके ’कानून द्वारा कानून का राज’ कायम करने व साथ ही ’’सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय’’ की नीतियों व कार्यक्रमों पर आधारित ही अपनी लोकप्रिय सरकार बनते हुए देखना चाहते हैं। वैसे बेहतर सरकार के लिये उन्हें केवल बीएसपी के परखे हुये मजबूत नेतृत्व पर भरोसा है।
 जिसका साफ मतलब यह है कि सपा व कांग्रेस पार्टी ने अलग-अलग से अपना जो लम्बा-चैड़ा घोषणा-पत्र जारी किया था वह प्रदेश की जनता की आँखों में धूल झोंकने के लिये  इनकी करनी में ज़मीन-आसमान का अन्तर  है। जनता को इससे सावधान रहना बहुत जरुरी है।
कांग्रेस व बीजेपी भी अपने-अपने घोषणा-पत्रों के माध्यम से ऐसी ही नाटकबाजी व जनता के साथ वादाखिलाफी करती रहती है।
फिर भी कांग्रेस ने ऐसे जंगलराज के प्रतीक दागी चेहरे को अपना चेहरा बनाकर परन्तु प्रदेश की जनता सपा-कांग्रेस दोनों को ही इस चुनाव में सही जवाब अवश्य ही देगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here