ब्राह्मणो ने किया दलितों को हवन से दूर रहने का फरमान

0
504

जींद। आजादी के 70 साल बाद भी संघर्षरत है। लेकिन अब एक परिवर्तन दिखाई देता है कि शिक्षा के लिए लगातार संघर्षरत कर रहे दलित समाज कई जगहों पर मंदिर प्रवेश को खुद ही त्याग चुका है। दलित समाज हिंदु वर्ग में भेदभाव से तंग आकर बौद्ध धर्म की ओर रुख कर रहा है। ताजा मामला हरियाणा से सामने आया है। जींद के गांव डूमरखां खुर्द में एक कथित सवर्ण युवक ने दलितों को हवन यज्ञ में आहुति नहीं डालने देने का फरमान सुना दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, थाना प्रभारी ने दोनों पक्षों को थाना में बुलाया, लेकिन वहां कोई पक्ष नहीं पहुंचा। दलित समाज के लोगों ने कहा कि उनका किसी के साथ कोई समझौता नहीं हुआ है, बल्कि उन पर समझौते का दबाव डाला जा रहा है। उधर पंडितों का कहना है कि जब इस प्रकार का विवाद हुआ तो उन्होंने सामान्य जाति के लोगों को भी हवन-यज्ञ से बाहर कर दिया गया है, उनको भी बाहर से ही परिक्रमा करने को कहा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here