बीस साल बाद बनाई जा रही नाली व सड़क

0
188

विधानसभा के अंतर्गत संगम विहार की हालत पिछले बीस साल से ख़राब है इस कॉलोनी के हजारो लोगो को सड़क सीवर जैसी मूलभूत अक्सर आप भी देखते होंगे कि आपके घर के पास की सड़क बनाई जाती है,

थोड़े दिनों बाद उस सड़क की फिर से खोदाई होने लगती है, और फिर दोबारा सड़क बनने में सालों लग जाते हैं।

बड़ी बात यह है कि इसके पीछे जनता का पैसा यूं ही बर्बाद होता रहता है। आखिर ऐसा क्यों किया जाता है और क्या इसका कोई उपाय नहीं है?

असल में, कहने को तो नगर विकास विभाग है, इसके तहत उत्तर प्रदेश स्थानीय निकाय निदेशालय, जल निगम, निर्माण एवं परिकल्प सेवाएं, जल संस्थान इत्यादि विभाग आते हैं। मगर इन विभागों में तालमेल न होने के कारण हर साल बड़ी मात्रा में उत्तर प्रदेश की जनता का पैसा बर्बाद होता है।

कभी सीवर लाइन, तो कभी जल आपूर्ति के लिए खोदाई होती है, तो कभी अंडरग्राउंड बिजली तार, टेलीफोन तार के नाम पर सड़क को बार-बार खोद दिया जाता है।

बाद में सड़क की मरम्मत के नाम पर लीपापोती करके काम ख़त्म कर दिया जाता है। ऐसे में कुछ ही दिनों में सड़क ख़त्म हो जाती है और फिर विधायक निधि, सांसद निधि और अन्य विकास निधियों से बनाई जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here