बाबा साहेब के जन्म के बारे में आप ये नहीं जानते होंगे – Baba Saheb Ke Janm Ke Bare Me Aap Yeh Nahi Jante Honge

0
592
बाबा साहब डा. भीम राव अम्बेडकर भारतीय संविधान के निर्माता, दलितों के मुक्तिदाता
बाबा साहेब के बारे में बहुत सारी बातें हे जिन्हे लोग सुन्ना, समझना और जानना चाहतें हे !
बाबा साहेब के मूलग्रंथो से हम आपको वो सारी घटनाये बताने और दिखाने की कोशिश करेंगे जो बाबा साहेब ने अपने जीवन में अनुभव करी जिनको जानने के लिए हर कोई उत्सुक रहता  हे !
बाबा साहेब के इस पहले एपिसोड में हम आपको बातएंगे की बाबा साहेब का जनम कब और कहा हुआ ? और उनके माता-पिता का क्या नाम था !
बाबा साहेब का जनम 14 अप्रैल 1891 को महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में महुछावली में हुआ उनकी माता का नाम भीमा बाई और पिता का नाम सूबेदार राम जी राव था बाबा साहेब डा. भीम राव अम्बेडकर अपने माता पिता की चौदवी संतान के रूप में जन्मे !
बाबा साहेब डा. भीम राव अम्बेडकर का जनम एक महार जाती में हुआ ! इस जाती को बहुत ही निचला वर्ग माना जाता था बचपन से ही भीम बहुत ही प्रतिभाशाली थे लेकिन उनकी प्रतिभा खुश भी काम नहीं आ पा रही थी क्युकी बाबा साहेब के परिवार के साथ सामाजिक और आर्थिक रूप से गहरा भेदभाव किया जाता था
इनका बचपन का नाम राम जी सतपाल था अम्बेडकर के पूर्वज लम्बे समय तक ब्रिटिश कास्ट इंडिया कंपनी की सेना में कार्यरत्त थे उनके पिता बहुत ही निडर और ईमानदार व्यक्ति थे भीम राव अम्बेडकर के पिता ने हमेशा ही अपने बच्चो की शिक्षा पर जोर दिया !
सन 1894 में भीम राव अम्बेडकर जी के पिता सेवानिवृत हो गए और इसके दो साल बाद उनकी माता जी भीमा बाई अम्बेडकर का भी निधन हो गया बच्चो की देखभाल ( भीम राव अम्बेडकर की देखभाल ) उनकी चाची ने कठिन परिस्थितयों में रहते हुए की राम जी सतपाल के केवल तीन बेटे बलराम , आन्नद राव और भीम राव और उनकी दो बेटियां मंजुला और तुलसा ही इन कठिन परिस्थयों में जीवित रह पाए !
ये थी बाबा साहेब की जनम की कहानी अगले भाग में हम आपको बातएंगे !
बाबा साहेब के स्कूल के बारे में की उन्होंने पढ़ाई करते समय किस छूआ छूट को अनुभव किया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here