प्रदूषण के कारण भारत मौते होने के आकड़ो में आगे होता जा रहा है

0
483

मौत के आंकड़ों की लिस्‍ट में भारत आगे ओजोन के कारण होने वाले प्रदूषण से …..

  एक रिसर्च से यह बात भी सामने आयी है कि प्रदूषण मामले में भारत अव्‍वल नंबर पर पहुंच गया है। इस वर्ष दिवाली के अगले दिन दिल्ली एनसीआर ने धुंध की चादर में खुद को लिपटा पाया और यह धुंध कई दिनों तक कायम रही। भारत में गहराते प्रदूषण संकट के कारण हुई मौतों ने इसे चीन के बाद दूसरे स्थान पर जगह दे दी और पूरी दुनिया में फैले हुए प्रदूषण का आधे से ज्यादा हिस्सा इन दोनों देशों का है।
 और इन बिमारियों का कारण है ये प्रदूषण
प्रदूषणरिपोर्ट में 2000 से अधिक शोधकर्ताओं ने 1990 के बाद से 195 देशों में 300 से अधिक बीमारियों के लिए, व्यवहार आहार और पर्यावरण को खतरा माना है।
 आज के समय में ओजोन प्रदूषण की वजह से कम उम्र में ही लोगों की मौत हो जाती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया की 92 फीसदी आबादी हानिकारक हवा में सांस लेती है।
रिसर्च करने वाले संस्थान ‘हेल्थ इफेक्ट्स इंस्टिट्यूट’ (के डैन ग्रीनबाउम ने बताया की, ‘शोध में सामने आया है कि दुनिया के कई हिस्सों में स्थिति काफी सुधर रही है
 बांग्लादेश व पाक से कई गुना आगेबोस्टन में मंगलवार को रिलीज स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर 2017 के रिपोर्ट के अनुसार, 2015 में 2.54 लाख मौतें हुईं और इनके पीछे फेफड़े का संक्रमण (infection) कारण रहा। यह आंकड़ा बांग्लादेश के आंकड़े से 13 गुना अधिक और पाकिस्तान के आंकड़े से 21 गुना अधिक है।
रिपोर्ट के नतीजों के बारे में सेंटर फॉर साइंस एंड एंवायर्नमेंट की अनुमिता राय चौधरी ने भी कहा की, ‘भारत को इस मामले में ढील नहीं देनी चाहिए। और इस खतरे को कण्ट्रोल करने के बारे में चर्चा करनी चाहिए, जो की बहुत ही जरुरी है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here