घर व कारखाने के मुख्य द्वार पर नींबू -मिर्ची टांगने से नहीं लगती बुरी नजर 

0
837
पुरानी कहावत है की अगर किसी की बुरी नजर लग जाए तो वह इंसान तो क्या पत्थर को भी फाड़ देती है अगर किसी के घर दुकान कारखाने में काम अच्छा चल रहा हो तो हम सहज ही कहते है की भगवान का लाख शुक्र की किसी की बुरी नजर नहीं लगी वहीं अगर इससे विपरीत हो तो हम कहते है की किसी की बुरी नजर लग गई है महाराष्ट्र स्थित श्री शनि शिंगणापुर के पुजारी गावड़े महाराज के परम शिष्य पंडित दीपक शर्मा ने बताया की लोगो के घरो व कारोबार में बुरी नजर लग जाती है जिससे घर में बीमारी कारोबार ठप्प होने के साथ -साथ अन्य कई तरह की दिक्क़ते आती है उन्होंने बताया की बुरी नजर उतरवाने के लिए किसी को हजारो रुपय न दे बुरी नजर से छुटकारा पाने के लिए आपको अपने घर दुकान व कारखानों के मुख्य द्वार पर मंगलवार व शनिवार को एक फ़ोल सात हरी मिर्च व एक नींबू काले धागे में पिरोकर लटका देना चाहिए वह सब आपको अपने घर में पिरोने की जरूरत नहीं है आपने तकरीबन देखा होगा की कई घरो व अन्य स्थानों पर नींबू वह हरी मिर्च टंगी हुई दिखती है शहर में यूपी व बिहार से आए कई लोग 50 -60 रुपय प्रतिमाह लेकर मंगलवार व शनिवार को घरो के बाहर टांग देते है अगर आपको किसी की बुरी नजर से बचना है तो नींबू मिर्ची सबसे सस्ते व सटीक उपाय है श्री शर्मा ने बताया की गेंदे के फूल को जहां सरस्वती माता का प्रतीक माना जाता है वहीं काले धागे को शनिदेव को प्रिय है इस उपाय  से सरस्वती माता व शनिदेव की कृपा भी बनी रहती है काले धागे में पिरोई गई 7 हरी मिर्चे व नींबू अगर लाल हो जाए तो समझो की अब आप पर किसी बुरी नजर का साया नहीं है उन्होंने बताया की घर के सुन्दर सदस्य के बीमार रहने पर बुरी नजर लगना माना जाता है जिस पर उसके कान के पिछले हिस्से पर काला टीका लगा देना चाहिए घर के प्रत्येक सदस्य को अपने कान के पिछले हिस्से में काजल का छोटा सा टीका जरूर लगाना चाहिए प्लास्टिक के नींबू -मिर्ची न टांगे आधुनिकता के लालच में बाजार में रेडिमेंट नींबू मिर्ची आ गई है चीन और भारत में तैयार होने वाले प्लास्टिक के धागे में पिरोए गए नींबू मिर्ची से नजर नहीं उतरती अधिकतर लोग ऐसे नींबू मिर्च को ही घरो के मुख्य द्वार पर टांग रहे है जो की फायदेमंद नहीं है असली नींबू हरी मिर्च व फूल को काले धागे में पिरोकर ही लटकाना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here