घट रही है रीटेल स्पेस की सप्लाई बंद होंगे मॉल्स

0
532

घट रही है रीटेल स्पेस की सप्लाई बंद होंगे मॉल्स

जी मॉल्स जो लोगो के शॉपिंग के लिए सबसे अच्छी और खूबसूरत जगह है और अगर ये बंद हो जायेंगे तो लोगो तो काफी मुश्किलें होंगी इसीलिए इस मामले में इंडिया में आज पहली बार रीटेल स्पेस की सप्लाई घटने की बाते सामने आई है।

ये एक ऐसा मुख्य तौर पर कारोबार ठीक से न चलने की वजह से कई मॉल्स के बंद होने और नई सप्लाई सीमित रहने के कारण हुआ है। पिछले साल पांच मॉल बंद हुए, वहीं 10 अन्य ने अपनी जगह को ऑफिसों, एजुकेशन इंस्टिट्यूट्स, शॉपिंग क्लस्टर्स, अस्पतालों और बैंक्वेट हॉल्स के लिए भी बदल दिए गए है |

और इसीलिए इसके चलते देशभर में 15 मॉल्स में से लगभग 35 लाख स्क्वेयर फुट रीटेल स्पेस निकल गया। ये मॉल्स चेन्नई, दिल्ली-एनसीआर, मुंबई और पुणे में चल रहे थे।

और पिछले साल13 मॉल्स का निर्माण कार्य पूरा हुआ, वहीं ऑपरेशनल स्टॉक से 15 को हटा लिया गया। इसके चलते सप्लाई साइड पर 3 लाख स्क्वेयर फुट का नेगेटिव इंपैक्ट पड़ा। यह बात जेएलएल इंडिया की एक रिपोर्ट में कहा गया है।

साथ प्रेस्टीज एस्टेट प्रॉजेक्ट्स के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर सुरेश सुनगरावेलु ने कहा, की ‘मॉल्स के लिए कैचमेंट का मामला लगातार बदल रहा है। हमें ऑनलाइन रीटेलर्स और ऑफलाइन मॉल्स, दोनों मोर्चों से चुनौती मिल रही है।

हमें मौजूदा मार्केट में प्रासंगिक बने रहने के लिए सबसे पहले खुद को लगातार बदलना होगा।’ उदाहरण के लिए, इस कंपनी ने कुछ खास कस्टमर्स के लिए बेंगलुरु में दो मॉल्स की रीपोजिशनिंग की है। व्हाइटफील्ड में फोरम वैल्यू मॉल को एक नेबरहुड मॉल में बदला गया है |

और पिछले साल इंडिया में टोटल 27 लाख स्क्वेयर फुट रिटेल स्पेस की खपत हुई थी। इसमें से दिल्ली-एनसीआर में सबसे ज्यादा 10 लाख स्क्वेयर फुट और उसके बाद मुंबई में 6 लाख स्क्वेयर फुट स्पेस की खपत हुई थी।

इसीलिए देशभर में अच्छे कारोबार वाले कुछ ही मॉल्स भी दिख रहे हैं। और कई तो अन्य का कारोबार औसत या इससे नीचे है। मॉल में शॉपिंग का मामला अब कंज्यूमर एक्स्पीरियंस से ज्यादा जुड़ गया है। ऐवरेज या खराब मॉल में न तो रीटेलर जाना चाहते हैं और न ही खरीदार।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here