उत्तर प्रदेश में  86 लाख किसानों का कर्ज होगा माफ 

0
640
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री आदित्यनाथ योगी जी के आने से वहा के लोग काफी गौवंगीत महसूस कर रहे हे  विधानसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी की ओर से उत्तर प्रदेश के किसानों से किये गए वादे को निभाने के लिए  योगी आदित्यनाथ सरकार की आज होने जा रही कैबिनेट की पहली बैठक में भाजपा ने अपने लोक कल्याण संकल्प पत्र में सूबे के लघु व सीमांत किसानों के फसली ऋण माफ करने की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फरवरी में लखीमपुर खीरी के राजकीय इंटर कालेज मैदान में आयोजित चुनावी रैली में एलान किया था कि भाजपा सरकार बनने पर पहली कैबिनेट में किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा। लिहाजा योगी सरकार कैबिनेट की पहली बैठक में कर्ज के बोझ से कराहते अन्नदाताओं के फसली ऋण को माफ करने के प्रस्ताव पर मुहर लगाते हुए उन्हें राहत देने का इंतजाम करेगी। योगी सरकार कैबिनेट की पहली बैठक में कर्ज के बोझ से कराहते अन्नदाताओं के फसली ऋण को माफ करने के प्रस्ताव पर मुहर लगाते हुए उन्हें राहत देने का इंतजाम करेगी।
यह भी कहा गया था कि भविष्य में गन्ना किसानों को फसल बेचने के 14 दिनों के भीतर पूरा भुगतान करने की व्यवस्था सरकार लागू करेगी। संकल्प पत्र के ये सभी वादे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की जुबान से गुजरते हुए जन-जन के बीच गए। किसानों को इस बात का भरोसा हो गया कि भाजपा की सरकार बनने पर उनकी हालात पर ध्यान दिया जायेगा । किसानों की इसी आकांक्षा को भाजपा की नई सरकार ने परवान चढ़ाने की कोशिश शुरू कर दी है। जाहिर है कि मोदी के वायदों की रक्षा के लिए प्रदेश सरकार संकल्पित है और मंगलवार को इसकी बानगी देखने को मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here