आर बी आई रिजर्व का इस्तेमाल खजाने की लूट होगी

0
358

केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए नोटबंदी के कदम को बेहद कठोर बताकर उसकी आलोचना करने वाले पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन ने रविवार को अर्थव्यवस्था से जुड़े कई मुद्दों पर बेबाक राय रखी।

अपनी किताब ‘ऑफ काउंसिलः द चैलेंजेस ऑफ द मोदी-जेटली इकनॉमी’ के विमोचन के लिए भारत दौरे पर आए सुब्रमण्यन ने नोटबंदी से लेकर केंद्र सरकार और RBI के बीच के टकराव पर अपनी राय के अलावा, नए मुख्य आर्थिक सलाहकार को उन्होंने कुछ नसीहतें भी दी हैं।

साथ ही, उन्होंने यह भी कहा है कि राजकोषीय घाटा कम करने के लिए आरबीआई के रिजर्व का इस्तेमाल केंद्रीय बैंक के खजाने की लूट होगी नोटबंदी के लिए काफी ‘कठोर’ और ‘अर्थव्यवस्था को झटका’ देने वाला कदम जैसे शब्दों के इस्तेमाल पर हमारी सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि 86 फीसदी नकदी को चलन से बाहर कर देने को आप क्या कहेंगे?

कठोर शब्द गंभीरता के लिए एक संकेतमात्र है, जिसका मतलब साहसिक और गंभीर है। अगर आप सिस्टम से 86 फीसदी नकदी निकाल लेंगे, तो क्या कोई आपको मृदुल या नरम कहेगा? उन्होंने कहा, ‘सबसे अहम बात यह है कि जो मैं कहना चाहता था,

लोग उसका उल्टा कह रहे हैं और यह एक पहेली बन गई है। आप इसे चाहे जो कहें, लेकिन इसका जीडीपी पर असर तो पड़ा है।’ नोटबंदी के बारे में अपनी व्यक्तिगत राय देते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं आर्थिक नीति और कदम उठाने की राजनीति के रूप में नोटबंदी के बारे में इससे भी अधिक महत्वपूर्ण सवाल पूछना चाहता हूं।

हमें नोटबंदी से क्या सीख लेनी चाहिए? मेरे लिए यह एक विश्वव्यापी घटना का एक हिस्सा है। लोग अपने हितों के खिलाफ जाकर वोट क्यों करते हैं? गोरे अमेरिकी रिपब्लिकंस और ट्रंप को वोट क्यों करते हैं?

जबकि उन्हें पता होता है कि इससे उनका नुकसान होने वाला है। नोटबंदी के बावजूद वे यूपी में चुनाव क्यों जीत जाते हैं? यह एक राजनीतिक पहेली है। इसकी आर्थिक पहेली यह है कि नकदी काम कैसे करता है, यह हम नहीं समझते हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here